समर्थक

शुक्रवार, 29 अप्रैल 2011

जोगी आया रे - ब्लैक ऐण्ड वाइट - 2008



स्वर: साधना सरगम, सुखविन्दर सिंह
संगीत: सुखविन्दर सिंह
कलाकार: अदिति शर्मा, अनुराग सिन्हा, शेफाली छाया एवम् अनिल कपूर

पुरातन पोस्ट पत्रावली

3 टिप्‍पणियां:

इंदु पुरी ने कहा…

यूँ 'जोगी' सोंग्स मुझे अधिकतर बहुत पसंद आये.जाने क्यों? देखिएगा हर जोगी गीत में एक अद्भुत मिठास है.बीच में नए गाने सुनने एकदम बंद कर दिए थे. अच्छे मधुर गीतों का दौर फिर शुरू हुआ है.
यह गीत आँखें मूँद कर सुनती हूँ .सोच लीजिए कैसा लगता है मुझे ये गीत !
'जब गायिका जोगी तेरा रूप अनोखा गाती है,मेरा कृष्न मेरे पास आ कर बैठ जाता है.अद्भुत अलौकिक अनुभूति देता ये गीत मुझे.
ऐसिच जो हूँ मैं - सरकी हुई.

इंदु पुरी ने कहा…

उफ़ ये कमेंट्स कहाँ गायब हो जाते हैं?

indu puri ने कहा…

इच्छा होती है इस गीत के बारे में बस लिखती जाऊं लिखती जाऊं........बरसों बाद दिल में हलचल पैदा कर देने वाला और असीम शांति देने वाला भी यही गीत सुना.वीडियो नही देखती.बस सुनती हूँ.......सचमुच 'जोगी! तेरा रूप अनोखा' किसने रचा तुम्हे जोगी? मेरे जोगिराज कृष्ण सा मीथ्पन है तुम में और अलौकिक रूप !कितनी बार सुन चुकी उसी तरह मन नही भरता जैसे ...अपने प्रियतम से मिलने की आस.जब उससे मिलूंगी...गले लग कर खूब रोऊंगी. अभी......ऐसे ही गीत मुझे उसके समीप होने का आभास देते हैं.मंदिर नही जाती...वो मिलने खुद चला आता है ऐसे ही किसी रूप में.हा हा हा वो भी जनता है कि ऐसिच हूँ मैं तो

ब्लॉग निर्देशिका - Blog Directory

हिन्दी ब्लॉग - Hindi Blog Aggregator

Indian Blogs in English अंग्रेज़ी ब्लॉग्स