समर्थक

सोमवार, 30 मई 2011

कभी तन्हाइयों में - हमारी याद आयेगी (1961)


पण्डित केदार शर्मा के शब्दों को दर्द में पिरोया है मुबारक बेगम ने, संगीत स्नेहल भटकर का।

पुरातन पोस्ट पत्रावली

कोई टिप्पणी नहीं:

ब्लॉग निर्देशिका - Blog Directory

हिन्दी ब्लॉग - Hindi Blog Aggregator

Indian Blogs in English अंग्रेज़ी ब्लॉग्स