समर्थक

सोमवार, 9 मई 2011

तंग आ चुके हैं - प्यासा - मुहम्मद रफी


साहिर लुधियानवी के शब्द रफी की आवाज़ में गुरुदत्त के मर्मस्पर्शी अभिनय के साथ, संगीत का संग चाहिये क्या?

पुरातन पोस्ट पत्रावली

कोई टिप्पणी नहीं:

ब्लॉग निर्देशिका - Blog Directory

हिन्दी ब्लॉग - Hindi Blog Aggregator

Indian Blogs in English अंग्रेज़ी ब्लॉग्स