समर्थक

मंगलवार, 15 नवंबर 2011

तेरी महफ़िल में क़िस्मत आज़माकर हम भी देखेंगे

मुग़ल ए आज़म (1960)

शक़ील बदायूँनी के शब्द, मधुबाला का अभिनय
लता मंगेशकर व शम्शाद बेगम के स्वर, नौशाद का संगीत

2 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर!

Rakesh Kumar ने कहा…

वाह! बहुत सुन्दर कव्वाली.
पुरानी यादें ताजा हो गईं.

ब्लॉग निर्देशिका - Blog Directory

हिन्दी ब्लॉग - Hindi Blog Aggregator

Indian Blogs in English अंग्रेज़ी ब्लॉग्स