समर्थक

बुधवार, 25 अप्रैल 2012

तक़दीर का सारा खेल है ये - हेराफ़ेरी (1976)

कल तक रब को भूला था, अब नाम लगा है रटने
जब माल लगा है घटने, लगा कलेजा फ़टने तो खैरात लगी है बँटने
किशोर कुमार और महेन्द्र कपूर

पुरातन पोस्ट पत्रावली

कोई टिप्पणी नहीं:

ब्लॉग निर्देशिका - Blog Directory

हिन्दी ब्लॉग - Hindi Blog Aggregator

Indian Blogs in English अंग्रेज़ी ब्लॉग्स