समर्थक

शनिवार, 28 दिसंबर 2013

अलविदा फ़ारूख शेख

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यों है (25 मार्च 1948 - 27 दिसंबर 2013)

उमराव जान (1981) में रेखा के साथ फ़ारूख शेख
गीत शहरयार का, संगीत खय्याम का पुरातन पोस्ट पत्रावली

1 टिप्पणी:

Anita ने कहा…

बहुत खुबसुरत गजल और फारुख शेख साहब को सच्ची श्रद्धांजलि !

ब्लॉग निर्देशिका - Blog Directory

हिन्दी ब्लॉग - Hindi Blog Aggregator

Indian Blogs in English अंग्रेज़ी ब्लॉग्स