समर्थक

सोमवार, 21 मार्च 2011

भारतीय राष्ट्रीय नववर्ष शुभ हो!

अमर चित्र कथा से साभार
सतवाहन वंश के महाराज शालिवाहन ने ईस्वी सन् 78 में भारत के पश्चिम के शक क्षत्रपों के विरुद्ध अपनी निर्णायक विजय के उपलक्ष्य में चन्द्र-सौरीय सम्वत "शक शालिवाहन" का श्रीगणेश किया था। कभी गन्धार से लेकर जावा सुमात्रा तक प्रचलित शक सम्वत को भारत सरकार की Calendar Reform Committee (पंचांग/पंजिका सुधार समिति?) ने ईस्वी सन् 1957 में भारत की आधिकारिक राष्ट्रीय पंजिका (कलेंडर) के रूप में मान्यता दी। मंगलवार 22 मार्च 2011 तदनुसार चैत्र प्रथमी/प्रतिपदा/पडवा को शक सम्वत 1933 का शुभारम्भ होता है।

आप सब को राष्ट्रीय नववर्ष शक शालिवाहन 1933 की शुभकामनायें!

सम्बन्धित लिंक्स
==================================
"क्रोधी" नाम सम्वत्सर 2068 विक्रमी शुभ हो!
==================================

कोई टिप्पणी नहीं:

ब्लॉग निर्देशिका - Blog Directory

हिन्दी ब्लॉग - Hindi Blog Aggregator

Indian Blogs in English अंग्रेज़ी ब्लॉग्स