समर्थक

सोमवार, 5 सितंबर 2011

सेवक कौ निकटी होय दिखावै

श्री गुरु अर्जुन देव जी के शब्द, भाई मनिन्दर सिंह की प्रस्तुति


अपने सेवक की आपै राखै, आपै नाम जपावै
जेह जेह काज किरत सेवक के, तहाँ तहाँ उठ धावै
सेवक कौ निकटी होय दिखावै
जो जो कहै ठाकुर पै सेवक, तत्काल हुइ जावै
तिस सेवक के हो बलिहारी, जो अपने प्रभु भावै
तिस की सोए सुनि मन हरया, नानक प्रसन्न आवै

2 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

bahut hi sundar prastuti ||

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत सुंदर और भक्तिमयी प्रस्तुति॥

ब्लॉग निर्देशिका - Blog Directory

हिन्दी ब्लॉग - Hindi Blog Aggregator

Indian Blogs in English अंग्रेज़ी ब्लॉग्स