समर्थक

बुधवार, 5 अक्तूबर 2011

जाग के काटी सारी रैना, नयनों में कल ओस गिरी थी (लीला)

प्रेम की अग्नि बुझती नहीं है, बहती नदिया रुकती नहीं है

मेरे प्रिय गीतों में से एक और - जगजीत सिंह के स्वर में

1 टिप्पणी:

indu puri ने कहा…

jaag ke kaati saari raina,naino me kl os giri thi' bahut pyari gazal hai yh. sun rhi hun ek baar fir.

ब्लॉग निर्देशिका - Blog Directory

हिन्दी ब्लॉग - Hindi Blog Aggregator

Indian Blogs in English अंग्रेज़ी ब्लॉग्स